तू न सही, तेरी ही सही

तू न सही, तेरी उम्मीद ही सही. तू न सही, तेरा ख़याल ही सही. तू न सही, तेरी बात ही सही. तू न सही, तेरा ख़्वाब ही सही. तू न सही, तेरी याद ही सही. तू न सही, तेरा नाम ही सही. तू न सही, तेरी चाहत ही सही. तू न सही, तेरा दीदार ही … Continue reading तू न सही, तेरी ही सही

Advertisements

You cannot

(Estimated reading time 7 minutes each) You cannot cover the whole earth with grass, ... but you can wear slippers. You cannot stop the rain, ... but you can open an umbrella. You cannot warm up the whole environment, ... but you can wear a sweater. You cannot direct the wind, ... but you can … Continue reading You cannot

आभास

वो एक रात थी तारों की बारात थी मै था अकेला और खुद से की बात थी हमारी क्या औकात थी ये जिंदगी जो एक सौगात थी भीड़ मे था तन्हा और सायों की ही जमात थी एक कलम के सिपाही के लिखने की क्या औकात थी जब घूम ली थी पूरी दुनिया तो की … Continue reading आभास

सृष्टि है वो अपनेआप मे

सृष्टि है वो अपनेआप मे घटाओं जैसे बालों से घिरी हुई बर्फ जैसी रंगत है, सीप जैसी पलकों में नीलम जैसी आँखें हैं, गुलाब जैसे होठों में मोती जैसे दांत, फूलों जैसे गाल हैं और कमल जैसे अंग, बच्चों जैसी हँसी और लहरों जैसी अदाएं, प्यार से भी प्यारी है वो !! Regenerated in English: She is creation … Continue reading सृष्टि है वो अपनेआप मे

अगर हम सपने न देखते

ज़िन्दगी बहुत आसान होती अगर हम सपने न देखते .. पर ज़िन्दगी भी क्या ज़िन्दगी होती अगर हम सपने न देखते .. छोटी छोटी बातों पर खुश होते अगर हम सपने न देखते .. पर बड़ी बड़ी खुशियाँ कैसे देते अगर हम सपने न देखते .. इतनी ठोकरें न खानी पड़ती अगर हम सपने न … Continue reading अगर हम सपने न देखते